.

Monday, March 9, 2020

श्री प्राचीन गुगा माड़ी शिव मंदिर समराला रोड खन्ना में बड़ी धूमधाम से होली का पर्व मनाया

खन्ना--
श्री प्राचीन  गुगा माड़ी शिव मंदिर समराला रोड खन्ना में बड़ी धूमधाम से होली का पर्व मनाया गया जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे

पंडित देशराज शास्त्री जी ने बताया कि पौराणिक कथाओं के अनुसार राक्षस प्रवृत्ति वाला हिरण्यकश्यप अपने पुत्र प्रह्लाद की भगवान के प्रति भक्ति को देखकर बहुत परेशान था। उसने प्रह्लाद का ध्यान ईश्वर से हटाने के लिए हर संभव कोशिश की लेकिन उसे इसमें सफलता नहीं मिली।

अंततः हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को जान से मारने का फैसला किया। उसने इसके लिए अपनी बहन होलिका से आग्रह किया। ऐसा कहा जाता है कि होलिका को भगवान भोलेनाथ ने यह वरदान में एक शाल दी थी जिसे पहनने से वो कभी भी आग में नहीं जलेगी।

इस वरदान को पाने वाली होलिका ने सोचा कि वह  प्रह्लाद को आग में जाएगी और खुद शाल ओढ़ लेगी। इस तरह प्रह्लाद की जलने से मृत्यु हो जाएगी जबकि शाल उसको सुरक्षित रखेगा।

हालांकि हुआ इसके ठीक विपरीत – ऐन मौके पर भगवान विष्णु ने हवा का ऐसा झोंका चलाया कि शाल उड़कर प्रहलाद के ऊपर आ गयी। भगवान ने प्रह्लाद की रक्षा की और होलिका का दहन हो गया।

इस तरह सभी ने अच्छाई पर बुराई की जीत के प्रतीक स्वरूप मिठाइयां बांटी और होली के त्योहार की शुरुआत हुई। होली के दिन गिले शिकवे भुलाकर सभी एक दुसरे को रंग लगाकर और मिठाई खिलाकर इस त्योहार को मनाते हैं

मंदिर प्रबंधक कमेटी के प्रधान प्रेमचंद बख्शी जी ने सभी शहर वासियों को यह संदेश दिया की होली को मनाने का मुख्य उद्देश्य केवल एक दूसरे से अच्छे संबंध बनाना और प्रेम और भाईचारे के साथ रहना है। इस मौके पर कीर्तन मंडली और श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया